जल ही जीवन है
Location Iconउदयपुर जिला, राजस्थान

धीराराम कपाया वन उत्थान संस्थान चलाते हैं। यह समितियों का एक ऐसा संघ है जो जमीन से जुड़े संसाधनों की सुरक्षा करता है। कपाया राजस्थान के उदयपुर जिले के भील जनजाति से आए हैं। उदयपुर जिले में जंगलों और चारागाहों की सुरक्षा के लिए कई दशक लंबे आंदोलन चले और अब इस इलाके के लोग इसे सामुदायिक संसाधन के रूप में देखते हैं। धीराराम एक कार्यकर्ता और कलाकार दोनों हैं। यह सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता फैलाने के लिए लोकगीत लिखते हैं और उन गीतों को गाते हैं। इनकी गीतों का विषय विविध है और इसमें कुपोषण से लेकर पर्यावरण जैसे विषय शामिल हैं।

इस गीत को सुनिए जो इन्होनें पानी और दूसरे प्राकृतिक संसाधनों को बचाने के बारे में और अपने समुदाय के लोगों को जागरूक करने के लिए बनाया है।  

धीराराम कपाया एक कार्यकर्ता और कलाकार हैं और सेवा मंदिर द्वारा स्थापित वन उत्थान संस्थान चलाते हैं।

स्नेहा फिलिप आईडीआर में कंटेंट डेवलपमेंट और क्यूरेशन का काम देखती हैं। 

इस लेख को अँग्रेजी में पढ़ें

अधिक जानें: कॉमन्स और उन्हें सुरक्षित रखने की जरूरतों के बारे में पढ़ें

अधिक करें: वन उत्थान संस्थान के बारे में और अधिक जानने के लिए लेखक से sneha@idronline.org पर संपर्क करें।


और देखें


भूजल खेल: ग्रामीण राजस्थान में पानी बचाना सीखना
Location Icon भीलवाड़ा जिला, राजस्थान

कर्नाटक में सुपारी की खेती: क्या भूजल की क़ीमत इतनी कम है?
Location Icon बंगलुरु ग्रामीण ज़िला, कर्नाटक

“हम जवान लोगों को काम पर रखेंगे”
Location Icon दक्षिण पूर्वी दिल्ली ज़िला, दिल्ली,पश्चिम दिल्ली ज़िला, दिल्ली

स्कूल में वापसी
Location Icon गोलाघाट ज़िला, असम