September 13, 2023

समाजसेवी संगठन डिजिटल परिवर्तन के लिए तकनीकी क्षमता निर्माण कैसे करें? 

तकनीकी क्षमता का निर्माण, समाजसेवी संस्थाओं को अपने डिजिटल परिवर्तन के लिए आवश्यक ज्ञान और संसाधन प्रदान कर सकता है।
6 मिनट लंबा लेख

डिजिटल तकनीक का उपयोग दुनिया को बदल रहा है। लगभग सभी क्षेत्रों में नवाचार, परिचालन क्षमता, स्केलेबिलिटी और बेहतर ग्राहक अनुभव को बढ़ावा दिया जा रहा है। पिछले कुछ वर्षों में, बड़ी संख्या में समाजसेवी संस्थाओं ने, अपने विस्तार और प्रभाव जैसे लक्ष्यों को हासिल करने में डिजिटल तकनीक द्वारा निभाई जा सकने वाली महत्वपूर्ण भूमिका की संभावनाओं को देखना शुरू किया है। इससे प्राप्त आंकड़े फंडरेजिंग और डोनर के साथ संवाद में भी मददगार होते हैं। लेकिन अब भी ज्यादातर समाजसेवी संस्थाएं डिजिटाईजेशन को बढ़ावा देने को लेकर सीमित प्रयास ही करती हैं। इसकी वजह उनकी टीम के भीतर समझ और संसाधन की कमी होना है। डेवलपमेंट सेक्टर में तकनीकी क्षमता और प्रतिभा के निर्माण को लेकर लगातार चर्चा होती रहती है, लेकिन वास्तव में इसका क्या मतलब है?

पिछले सात वर्षों में हमने कोइटा फाउंडेशन में 15 से अधिक समाजसेवी संस्थाओं को तकनीकी रूप से सक्षम समाधान देने पर विस्तृत काम किया है। इसमें जमीनी स्तर पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं के लिए उनके कामकाज का प्रबंधन करने वाला एप्लिकेशन बनाना, बिजनेस इंटेलिजेंस (बीआई) एनालिटिक्स विकसित करना और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट से जुड़े उपकरणों से काम लेना शामिल है।

यहां कुछ ऐसे उपाय बताये जा रहे हैं जिससे किसी संगठन के तकनीक क्षमता निर्माण में मदद मिल सकती है।

Hindi Facebook ad banner for Hindi website

1. अपने अनुभवी साथियों से बात करें

समान कार्य कर रहे और तकनीक को सफलतापूर्वक लागू करने वाले दूसरे संगठनों से संपर्क करें। क्षेत्र के अन्य नेताओं से बात करने से तकनीक को अपनाने की जटिलताओं और उसके फायदों को समझने में मदद मिलती है। इसके अलावा, इससे नेतृत्व को अपने संगठन के भीतर तकनीक के विचार के साथ सहज होने में भी आसानी होती है।

2. तकनीक का उपयोग करने के लिए सही फोकस क्षेत्रों का चयन करें

ज्यादातर संगठनों में ऐसी कई समस्याएं होती हैं जिनका समाधान तकनीक के इस्तेमाल से किया जा सकता है। संगठन प्रमुखों के लिए ऐसे क्षेत्रों की पहचान करना बहुत महत्वपूर्ण होता है जहां तकनीक का उपयोग सबसे अधिक कारगर साबित हो सकता हो। इतने वर्षों के अनुभव से हमने जाना कि संगठनों को ‘बैक-एंड’ प्रक्रियाओं (उदाहरण के लिए, वित्त एवं एचआर) की बजाय उनकी ‘फ्रंट-एंड’ प्रक्रियाओं (उदाहरण के लिए, संगठन अपने साथ काम करने वाले समुदायों के साथ कैसे जुड़े) के लिए तकनीकी मदद मुहैया करवाने से जुड़े प्रयास और निवेश पर अधिक उपयुक्त होते हैं। फ्रंट-एंड प्रक्रियाओं में तकनीक का इस्तेमाल समग्र परिचालन क्षमता, गुणवत्ता और स्केलेबिलिटी को बेहतर करता है। यह बदले में समुदायों, दानदाताओं और अन्य हितधारकों के साथ एक बेहतर चक्र बनाता है।

3. सुनिश्चित करें कि यह सीईओ और वरिष्ठ नेतृत्व की प्राथमिकता सूची में सबसे ऊपर है

ऐसा करना महत्वपूर्ण है। डिजिटल होने की चाहत रखने वाले किसी संगठन के लिए सबसे महत्वपूर्ण शर्त सीईओ और शीर्ष नेतृत्व की इस विचार के प्रति प्रतिबद्धता है। दूसरा सबसे महत्वपूर्ण मानदंड टीम को इसके लिए तैयार करना है। डिजिटल प्रबंधन, प्रबंधन में परिवर्तन की मांग करता है। इसके लिए दृढ़ता की आवश्यकता होती है, और यह प्रक्रिया अत्यधिक असमान और उतार-चढ़ाव से भरी हो सकती है। सीईओ और वरिष्ठ नेतृत्व के पूर्ण समर्थन और मार्गदर्शन के बिना, इस तरह के परिवर्तन के सफल होने की संभावना बहुत कम होती है।

जहां नेतृत्व के पास किसी प्रकार की तकनीकी पृष्ठभूमि या अनुभव होने की स्थिति में, डिजिटल होना आसान हो सकता है, वहीं उनके लिए प्रक्रिया में शामिल होना और तकनीक टीम या बाहरी विक्रेताओं के साथ जुड़कर इसके लिए कुछ समय देना अधिक महत्वपूर्ण है।

4. तकनीक सलाहकार से मदद लें

ज़्यादातर संगठनों को ऐसे तकनीकी सलाहकार के संपर्क में रहने से लाभ होता है जो इस यात्रा में उनका मार्गदर्शन कर सकते हैं। तकनीकी सलाहकारों की नियुक्ति प्रक्रिया में बोर्ड के सदस्य आमतौर पर तकनीक नेटवर्क का लाभ उठाने का एक बढ़िया स्रोत होते हैं।

सलाहकार, प्रमुख पहलुओं, जैसे तकनीक का उपयोग करने के लिए सही फोकस क्षेत्र की पहचान करना, व्यावसायिक आवश्यकताओं को सुव्यवस्थित करना, पूरा करने के लिए एक रोड मैप बनाना, तकनीक को खुद बनाने या ख़रीदने के विकल्पों पर सोचने और उपयुक्त तकनीकी विक्रेताओं की पहचान आदि में मददगार साबित हो सकते हैं।

यदि कोई संगठन केवल किसी वेंडर से सलाह लेता है तो उस स्थिति में उनके पास संगठन के लिए सही फोकस क्षेत्र की पहचान करने या आवश्यकताओं को तर्कसंगत बनाने की क्षमता नहीं होती है और वे केवल आपकी मांग की पूर्ति में सक्षम होते हैं। यह किसी आर्किटेक्ट से स्पष्ट डिज़ाइन प्राप्त किए बिना काम शुरू करने के लिए इमारत बनाने वाले किसी ठेकेदार को लाने जैसा है। इससे बहुत सारे काम दोबारा करने की ज़रूरत पड़ सकती है जिसमें धन और समय दोनों खर्च होते हैं।

डेस्क पर रखे कुछ डेस्कटॉप_तकनीकी क्षमता निर्माण
डिजिटलीकरण को आगे बढ़ाने के लिए समाजसेवी संस्थाएं अपनी टीम के भीतर समझ और संसाधनों की कमी के कारण सीमित हैं। | चित्र साभार: पीकपिक

5. एक कोर टीम बनाएं

नेतृत्व को राज़ी करने के अलावा, संगठनों को एक ऐसी कोर टीम का निर्माण करने की आवश्यकता होती है जो व्यापारिक परिवर्तन की इस प्रक्रिया की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर लेगा। इस टीम में दो या तीन लोग हो सकते हैं जिसमें उस विशेष कार्यक्रम के प्रमुख भी शामिल हैं जिसके लिए तकनीक लागू की जानी है। ज़रूरी नहीं है कि इस टीम के सदस्यों के पास तकनीक से जुड़ा अनुभव हो लेकिन वरिष्ठ नेतृत्व को ऐसे लोगों की तलाश करनी चाहिए जिनके पास समस्या-समाधान और गुणवत्ता/प्रक्रिया में सुधार के लिए आवश्यक योग्यता और रुचि हो। आवश्यक कौशल में उपयोगकर्ताओं के दृष्टिकोण से सोचने में सक्षम होना और फ़ील्ड में काम कर रही टीम को तकनीकी सहायता से काम करने के लिए राज़ी करना भी शामिल है।

6. तकनीक के सबसे अंतिम उपयोगकर्ता के साथ संपर्क बनाएं

तकनीकी क्षमता के निर्माण का एक हिस्सा उन उपयोगकर्ताओं (जैसे कि फ़ील्ड टीमों) को शामिल करना और प्रशिक्षित करना है, जिन्हें प्रौद्योगिकी उपकरणों का सही और लगातार उपयोग करने की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, संगठन को टूल के रोल-आउट के दौरान प्रासंगिक तकनीकी सहायता प्रदान करनी चाहिए। हमने विप्ला फाउंडेशन के साथ काम किया था जो एक ऐसी समाजसेवी संस्था है जिसने अपने बालवाड़ी शिक्षकों को स्मार्टफोन दिलवाने के लिए डोनर और वॉलंटीयर अभियान चलाया। उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि शिक्षकों के पास काम करने के लिए मोबाइल फ़ोन हो और उसके बाद उन्होंने एक व्यवस्थित प्रशिक्षण योजना बनाई ताकि सभी बालवाड़ी शिक्षक कार्यक्रम के महत्व को, शिक्षकों और छात्रों के लिए इसकी समग्रता से समझ सकें। इसके अतिरिक्त उन्होंने सभी शिक्षकों को ऑफलाइन क्रियान्वयन सहित एप्लिकेशन की सभी सुविधाओं के बारे में भी बताया।

इस दृष्टिकोण से बलवाड़ी शिक्षकों की समझ विस्तृत हुई और और बाद में उन्हें इस पहल का समर्थन करने में मदद मिली, हालांकि नए तकनीकी उपकरण सीखने और उसका उपयोग करने के लिए उन्हें कुछ अतिरिक्त प्रयास करने पड़े।

इस तरह का सतत सहयोग महत्वपूर्ण है ताकि आपकी पूरी टीम -मुख्य कार्यालय से फ़ील्ड में कार्यरत सदस्य तक- तकनीक को लेकर सहज महसूस करे। साथ ही, संगठन के डिजिटलीकरण की ओर बढ़ने के कारण को लेकर स्पष्ट समझ विकसित कर सके।

7. इसे करने वाले लोगों की खोज करें

इस काम को करने के कई तरीके हैं। इसका एक उपाय अपने संगठन के भीतर ही ऐसे लोगों की तलाश करना है। हालांकि, कार्यक्रम या उत्पाद प्रबंधन पृष्ठभूमि वाला व्यक्ति इस डिजिटलीकरण का नेतृत्व करने के लिए उपयुक्त विकल्प होता है। लेकिन ऐसा भी संभव है कि अधिकांश समाजसेवी संगठनों के पास ऐसे लोग ना हों। ऐसा अंतरंग फाउंडेशन के साथ-साथ विप्ला फाउंडेशन में भी हुआ है, जहां तकनीकी सोच वाले परिचालन प्रबंधकों ने संपर्क बिंदु के रूप में काम किया है और समाजसेवी संस्थाओं की आवश्यकताओं को सॉफ्टवेयर डेवलपर तक पहुंचाया है।

एक दूसरा दृष्टिकोण यह है कि इस तरह की प्रतिभा को बाहर से ढूंढ कर लाया जाए। किसी भी समाजसेवी संगठन या संस्था के लिए सीटीओ की नियुक्ति करना कठिन हो सकता है, जब तक कि नेतृत्व और/या बोर्ड के सदस्यों को ऐसे लोगों के बारे में पता न हो जो विकास क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं। स्थान भी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है – टियर-2 या टियर-3 नगरों की की तुलना में मुंबई और बंगलुरु जैसे बड़े शहरों में तकनीक सलाहकारों की तलाश करना आसान होता है।

जहां सीटीओ की नियुक्ति एक कठिन प्रक्रिया है, वही समाजसेवी संगठन, कार्यक्रम की टेस्टिंग और प्रबंधन जैसे तकनीकी पहलुओं के लिए जूनियर पदों पर नियुक्ति कर सकते हैं। यह जूनियर कार्यकर्ता तकनीक-साक्षर ऑपरेशन या कार्यक्रम प्रबंधक को अपनी रिपोर्ट पेश कर सकता है।

8. अंत में, इसके लिए फंड की व्यवस्था करें

तकनीक के लिए धन जुटाना कठिन है, खासकर तब जब आपके दानदाताओं की रुचि फंडिंग कार्यक्रमों में अधिक हो। यह उन समाजसेवी संस्थाओं के लिए विशेष रूप से सच है जिन्हें दानदाताओं के सामने अपने काम से आने वाले प्रभावी बदलावों की रिपोर्टिंग – जब आपके पास अपने कार्यक्रमों को बेहतर ढंग से चलाने के लिए डिजिटलीकरण की आवश्यकता को प्रमाणित करने वाले आंकड़े (जिसे प्राप्त करने में तकनीक आपकी मदद कर सकता है) उपलब्ध नहीं हैं तो आप इसके लिए धन की मांग कैसे कर सकते हैं – को लेकर संघर्षरत रहना पड़ता है।

हमने अक्सर देखा है कि एक बार सब समाजसेवी संगठन तकनीकी उपकरणों का इस्तेमाल शुरू कर देते हैं, तब उससे प्राप्त आंकड़ों का उपयोग मज़बूती से अपनी बात कहने और अतिरिक्त फ़ंडिंग के लिए दानकर्ताओं को तैयार करने में किया जा सकता है।

इसलिए, स्पष्ट उद्देश्यों और एक तय मानसिकता के साथ तकनीकी पहलों की शुरूआत करना और उनकी सफलता पर ध्यान केंद्रित रखना महत्वपूर्ण होता है।

हमें तकनीक को एक रणनीतिक उपकरण के रूप में देखना शुरू करना होगा जो संगठन को मानक प्रक्रियाओं और उचित उपकरणों के माध्यम से विश्वसनीय डेटा संग्रह के आधार पर मैन्युअल, गैर-मानक संचालन से डेटा-संचालित संस्कृति में विकसित करने में मदद कर सकता है। रणनीति निर्माण की प्रक्रिया के दौरान ही नेताओं को तकनीक को इसका एक अभिन्न अंग मानकर शामिल करना चाहिए और इसे बाद के लिए नहीं छोड़ना चाहिए।

इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ें

अधिक जानें

  • समाजसेवी संस्थाओं में तकनीक टीम बनाने की चुनौतियों के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह लेख पढ़ें
  • इस लेख को पढ़ें और जानें कि क्या आपके समाजसेवी संगठनों को एक नये तकनीक समाधान को विकसित करने की आवश्यकता है या फिर पहले से मौजूद तकनीक समाधानों का उपयोग उचित है।
  • इस लेख को पढ़ें और उस समाजसेवी संस्था के बारे में विस्तार से जानें जो हाशिये पर रहने वाली लड़कियों तक शिक्षा को पहुंचाने के लिए तकनीक का उपयोग कर रही है।
लेखक के बारे में
रेखा कोइटा-Image
रेखा कोइटा

रेखा कोइटा, कोइटा फाउंडेशन की निदेशक और सह-संस्थापक हैं। कोइटा फाउंडेशन एक ऐसी संस्था है जो समाजसेवी संगठनों के संचालन को डिजिटलीकृत करने के लिए उपयुक्त प्रक्रियाओं और डेटा-एनालिटिक्स के इस्तेमाल से जुड़े काम करती है जिससे वे बेहतर नतीजे और बढ़त हासिल कर सकें। एसेंचर में मैनेजमेंट कन्सल्टिंग के अपने पूर्व अनुभव के आधार पर रेखा ने कई भारतीय और बहु-राष्ट्रीय संगठनों और समाजसेवी संस्थाओं के लिए कॉर्पोरेट प्रशिक्षण का आयोजन भी किया है। इन्हें विशिष्ट सेवा पुरस्कार- आईआईटी बॉम्बे (2019) से भी सम्मानित किया जा चुका है।

टिप्पणी

गोपनीयता बनाए रखने के लिए आपके ईमेल का पता सार्वजनिक नहीं किया जाएगा। आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *