June 7, 2024

एक बार जब… स्कूल में एक अफ़वाह उड़ी

और, उस अफ़वाह को सुनकर स्कूल में जो हुआ, वो बहुत मज़ेदार था।
3 मिनट लंबा लेख

उस दिन, एक फ़ोन आया…

फोन सुनते हुए शिक्षक_स्कूल

फिर, शुरू हुआ… सफ़ाई अभियान!

शौचालय की सफाई करते शिक्षक_स्कूल

और, बच्चों को पहली बार सब साफ-सुथरा दिखाई दिया।

साफ शौचालय को देखते शिक्षक और बच्चे_स्कूल

तभी, किसी ने आकर बताया कि…

Hindi Facebook ad banner for Hindi website
एक महिला शिक्षक सूचना देती हुई_स्कूल

इस पर, बच्चों ने कहा –

मुस्कुराते हुए बच्चे_स्कूल
चित्र साभार: सुगम ठाकुर

उदय शंकर, सेंटर फ़ॉर पॉलिसी रिसर्च संस्था से जुड़े हैं और हल्का-फुल्का का यह अंक उनके एक अनुभव पर आधारित है। अगर आपके पास भी विकास सेक्टर से जुड़ा ऐसा कोई दिलचस्प और मज़ेदार क़िस्सा है तो हमें [email protected] पर लिख भेजें।

लेखक के बारे में
उदय शंकर-Image
उदय शंकर

उदय शंकर को डेवलपमेंट सेक्टर में काम करते हुए लगभग 10 वर्ष हो चुके हैं। इस दौरान इनका अलग-अलग सेक्टर में रिसर्च एवं लर्निंग एण्ड डेवलपमेंट में कई सालों का अनुभव रहा है। वर्तमान में उदय, सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च संस्था के साथ जुड़कर रिसर्च एवं लर्निंग एण्ड डेवलपमेंट में अपनी भूमिका निभा रहे हैं।

टिप्पणी

गोपनीयता बनाए रखने के लिए आपके ईमेल का पता सार्वजनिक नहीं किया जाएगा। आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *